बहुत जरूरी हैं चुनाव सुधार

177871-whatsapp-image-2020-07-25-at-122557-pm

हाल ही में हैदराबाद की एक विशेष अदालत ने तेलंगाना राष्ट्र समिति की सांसद कविता मलोथ को छह महीने कारावास की सजा सुनायी है. कविता ने 2019 लोकसभा चुनाव में अपने पक्ष में मतदान के लिए लोगों को पैसे बांटे थे. चुनाव के दौरान मतदाताओं को पैसे बांटने के लिए किसी पदस्थ सांसद को अपराधी […]

Continue reading


The charade of limits on election expenditure by candidates

The Election Commission recently mooted connecting electoral expense limits to population and inflation; but will that create a level playing field between rich and poor candidates? “Indian politicians start their legislative careers with a lie — the false spending returns they submit? – Atal Bihari Vajpayee” Achchhe din (Good days) are here for at least one category of persons in India: […]

Continue reading


Why the Solicitor General Is Wrong to Call for PILs to Be Scrapped

sc

Tushar Mehta’s remarks calling public interest litigations “self-employment generating petitions” sound like a complete and summary rejection of the concept and reek of contempt.   One of the Indian government’s senior-most legal officers, solicitor general Tushar Mehta said in the Supreme Court on April 3, 2020, that “’professional PIL shops’ must be locked down.” This has created […]

Continue reading


सांसद निधि से नुकसान ज्यादा

प्रत्येक संसद सदस्य को अपने क्षेत्र के विकास के लिए सांसद निधि के तहत हर साल पांच करोड़ रुपये दिये जाते हैं. सदस्य के सुझाव के आधार पर इस राशि से क्षेत्र में विकास कार्य कराये जाते हैं. हालांकि, इस प्रक्रिया पर सवाल हैं. स्थानीय क्षेत्र विकास के लिए सांसदों को दिया जानेवाला यह फंड […]

Continue reading


The status of NOTA

Cover image

The phrase ‘criminalisation of politics’ entered the Indian lexicon in 1993 when it was used by the Vohra Committee which had been set up “to take stock of all available information about the activities of crime syndicates/mafia organisations which had developed links with and were being protected by government functionaries and political personalities”. This high-powered […]

Continue reading


चुनावी प्रक्रिया में ठोस सुधार किए बिना महिलाओं के विरुद्ध जघन्य अपराध खत्म करना संभव नहीं

crimeAgainstwomen

हैदराबाद में एक पशु चिकित्सक युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म और उसकी हत्या कर उसके शव को जलाने की जो नृशंस घटना घटी उससे पूरे देश में गम और गुस्सा दिखाई दिया। देश भर के लोगों का रोष स्वाभाविक भी था, लेकिन जो आक्रोश संसद में और संसद के बाहर विभिन्न दलों के नेताओं ने […]

Continue reading